Sad Shayari, Barbadiyon Ke Jashn Mein

Sad Shayari, Barbadiyon Ke Jashn Mein

Sad Shayari

Tu Meri Barbadiyon Ke Jashn Mein Shamil Raha,
Yeh Tasawwur Hi Bahut Aaraam Deta Hai Mujhe.
तू मेरी बरबादियों के जश्न में शामिल रहा,
ये तसव्वुर ही बहुत आराम देता है मुझे।

Bhool Ja Ab Tu Mujhe Aasaan Hai Tere Liye,
Bhulna Tujhko Nahi Aasaan Magar Mere Liye.
भूल जा अब तू मुझे आसान है तेरे लिए,
भूलना तुझको नहीं आसां मगर मेरे लिए।

Fursat Agar Mile Toh Mujhe Parhna Jaroor,
Nakaam Zindagi Ki Muqammal Kitab Hoon Main.
फुरसत अगर मिले तो मुझे पढ़ना जरूर,
नाकाम ज़िंदगी की मुकम्मल किताब हूँ मैं।

Aisa Nahi Hai Ki Ab Teri Justzu Nahi Rahi,
Bas Toot Kar Bikharne Ki Aarzoo Nahi Rahi.
ऐसा नहीं है कि अब तेरी जुस्तजू नहीं रही,
बस टूट कर बिखरने की आरज़ू नहीं रही।

Khud Ko Likhte Huye Har Baar Likha Hai Tumko,
Is Se Zyada Koyi Zindgi Ko Kya Likhta?
खुद को लिखते हुए हर बार लिखा है तुमको,
इससे ज्यादा कोई जिंदगी को क्या लिखता?

Roj Khwabon Mein Jeete Hain Woh Zindagi,
Jo Tere Saath Hakeeqat Mein Sochi Thi Kabhi.
रोज़ ख्वाबों में जीते हैं वो ज़िन्दगी,
जो तेरे साथ हक़ीक़त में सोची थी कभी।

Kahin Kisi Roj Yun Bhi Hota,
Humari Haalat Tumhari Hoti,
Jo Raat Humne Gujari Tadap Kar,
Woh Raat Tumne Gujari Hoti.
कहीं किसी रोज़ यूँ भी होता,
हमारी हालत तुम्हारी होती,
जो रात हमने गुजारी तड़प कर,
वो रात तुमने गुजारी होती।

Naseeb Apna Asar Har Haal Mein,
Dikhla Hi Jata Hai,
Chalo Kitna SambhalKar,
Paaon Thhokar Kha Hi Jata Hai.
नसीब अपना असर हर हाल में
दिखला ही जाता है,
चलो कितना संभलकर
पाँव ठोकर खा ही जाता है।

Love Shayari,  Hindi Shayari , Shayari on Love

. Sad Shayari

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *