Mohabbat Ki Shayari, Itni Khamosh Mohabbat

Mohabbat Ki Shayari, Itni Khamosh Mohabbat

Mohabbat Ki Shayari

Kyun Karte Ho Mujhse Itni Khamosh Mohabbat,
Log Samjhte Hain Iss BadNaseeb Ka Koi Nahi.
क्यूँ करते हो मुझसे इतनी ख़ामोश मोहब्बत,
लोग समझते हैं इस बदनसीब का कोई नहीं।

Tere Intezar Mein Dum Tod Gayin Kitni Hasratein,
Fir Kisne Tera Naam Mohabbat Rakh Diya.
तेरे इंतज़ार में दम तोड़ गई कितनी हसरतें,
फिर किसने तेरा नाम मोहब्बत रख दिया।

Unse Keh Do Kisi Aur Se Mohabbat Ki Na Soche,
Ek Hum Hi Kafi Hain Umr Bhar Chahne Ke Liye.
उनसे कह दो किसी और से मोहब्बत की ना सोचें,
एक हम ही काफी हैं उन्हें उम्र भर चाहने के लिए।

Utar Jaate Hain Kuchh Log Dil Mein Iss Qadar,
JinKo Dil Se Nikaalo Toh Jaan Nikal Jaati Hai.
उतर जाते है कुछ लोग दिल में इस कदर,
जिनको दिल से निकालो तो जान निकल जाती है।

Uske Husn Se Mili Hai Mere Ishq Ko Ye Shohrat,
Mujhe Janta Hi Kaun Tha Teri Deewangi Se Pahle.
उसके हुस्न से मिली है मेरे इश्क को ये शौहरत,
मुझे जानता ही कौन था तेरी दीवानगी से पहले।

Duniya Ke Sitam Yaad Na Apni Hi Wafa Yaad,
Ab Mujhko Nahi Kuchh Bhi Mohabbat Ke Siwa Yaad.
दुनिया के सितम याद न अपनी ही वफ़ा याद,
अब मुझको नहीं कुछ भी मोहब्बत के सिवा याद।

Love Shayari,  Hindi Shayari , Shayari on Love

.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *