Love Shayari, Mere Bas Ki Baat Nahi

Love Shayari, Mere Bas Ki Baat Nahi

Love Shayari

Pyar Ki Had Ko Samajhna
Mere Bas Ki Baat Nahi,
Dil Ki Baaton Ko Chhupana
Mere Bas Ki Baat Nahi,
Kuchh To Baat Hai Tujhme
Jo Yeh Dil Tumpe Marta Hai,
Warna Yun Hi Jaan Ganwana
Mere Bas Ki Baat Nahi.

प्यार की हद को समझना,
मेरे बस की बात नहीं,
दिल की बातों को छुपाना,
मेरे बस की बात नहीं,
कुछ तो बात है तुझमें
जो यह दिल तुमपे मरता है,
वरना यूँ ही जान गँवाना,
मेरे बस की बात नहीं।

Koi Ghazal Suna Kar Kya Karna,
Yun Baat Badakar Kya Karna.
Tum Mere The Tum Mere Ho,
Duniya Ko Batakar Kya Karna.
Tum Saath Nibhao Chahat Se,
Koi Rasm Nibhakar Kya Karna.
Tum Khafa Hi Achhe Lagte Ho,
Phir Tumko Manakar Kya Karna.

कोई ग़ज़ल सुना कर क्या करना,
यूँ बात बढ़ा कर क्या करना।
तुम मेरे थे, तुम मेरे हो,
दुनिया को बता कर क्या करना।
तुम साथ निभाओ चाहत से,
कोई रस्म निभा कर क्या करना।
तुम खफ़ा भी अच्छे लगते हो,
फिर तुमको मना कर क्या करना।

Koyi Haath Bhi Na Milayega,
Jo Gale Miloge Tapaak Se,
Ye Naye Mizaaz Ka Shahar Hai,
Zara Faasle Se Mila Karo.
कोई हाथ भी न मिलाएगा,
जो गले मिलोगे तपाक से,
ये नए मिजाज का शहर है,
जरा फ़ासले से मिला करो।

Sheeshe Sa Badan Lekar Yun
Nikla Na Karo Raahon Mein,
Patthar Se Chhupe Hote Hain,
Yahan Logo Ki Nigaaho Mein.
शीशे सा बदन लेकर यूँ
निकला ना करो राहों में,
पत्थर से छुपे होते हैं
यहाँ लोगों की निगाहों में।

Yeh Wafa Ki Sakht Raahein
Yeh Tumhare Paaon Naazuk,
Na Lo Intekaam Mujhse
Mere Saath Saath Chal Ke.
ये वफ़ा की सख़्त राहें
ये तुम्हारे पाँव नाज़ुक,
न लो इंतिक़ाम मुझसे
मेरे साथ साथ चल के।

Love Shayari,  Hindi Shayari , Shayari on Love

.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *