Love Shayari, Khwabon Ke Ghar Mein

Love Shayari, Khwabon Ke Ghar Mein

Love Shayari,

Nahi Jo Dil Mein Jagah Toh Najar Mein Rehne Do,
Meri Hayaat Ko Tum Apne Asar Mein Rehne Do,
Main Apni Soch Ko Teri Gali Mein Chhod Aaya Hun,
Mere Wajood Ko Khwabon Ke Ghar Mein Rehne Do.
नहीं जो दिल में जगह तो नजर में रहने दो,
मेरी हयात को तुम अपने असर में रहने दो,
मैं अपनी सोच को तेरी गली में छोड़ आया हूँ,
मेरे वजूद को ख़्वाबों के घर में रहने दो।

Bas Tere Hone Se Mili Meri Dhadkano Ko Zindgi,
Tere Bina Ab Saans Loon Mere Liye Mumkin Nahi,
Mehsoos Yeh Hota Hai Tu Mere Liye Hai Laazmi,
Tere Bina Lamhe Chalein Ab Toh Yeh Mumkin Nahi.
बस तेरे होने से मिली मेरी धडकनों को जिंदगी,
तेरे बिना अब सांस लूँ मेरे लिए मुमकिन नहीं,
महसूस ये होता है तू मेरे लिए है लाजिमी,
तेरे बिना लम्हें चलें अब तो ये मुमकिन नहीं।

Usne Mohabbat, Mohabbat Se Jyada Ki Thi,
Humne Mohabbat Uss Se Bhi Jyada Ki Thi,
Ab Wo Kise Kahenge Mohabbat Ki Intehaan,
Humne Shuruat Hi Intehaan Se Jyada Ki Thi.
उसने मोहब्बत, मोहब्बत से ज्यादा की थी,
हम ने मोहब्बत उस से भी ज्यादा की थी,
अब वो किसे कहेंगे मोहब्बत की इन्तेहाँ,
हमने शुरुआत ही इन्तेहाँ से ज्यादा की थी।

Love Shayari,  Hindi Shayari , Shayari on Love

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *