Hindi Shayari, Maayoos Kyun

Table of Contents

Hindi Shayari, Maayoos Kyun

hindi shayari

Ab Maayoos Kyun Ho Uss Ki Bewafai Pe Faraz,
Tum Khud Hi To Kehte The Ki Wo Sabse Juda Hai.
अब मायूस क्यूँ हो उस की बेवफाई पे फ़राज़,
तुम खुद ही तो कहते थे कि वो सबसे जुदा है।

In Baarishon Se Dosti Acchi Nahi Faraz,
Kaccha Tera Maqaan Hai Kuch To Khayal Kar.
इन बारिशों से दोस्ती अच्छी नहीं फराज,
कच्चा तेरा मकाँ है कुछ तो ख्याल कर।

Aankh Se Door Na Ho Dil Se Utar Jaayega,
Waqt Ka Kya Hai Guzarta Hai Guzar Jaayega.
आँख से दूर न हो दिल से उतर जायेगा,
वक़्त का क्या है गुजरता है गुजर जायेगा।

Tumhari Ek Nigah Se Qatal Hote Hain Log Faraz,
Ek Nazar Hum Ko Bhi Dekh Lo Ke Tum Bin Zindagi Achhi Nahi Lagti.
तुम्हारी एक निगाह से क़त्ल होते हैं लोग फ़राज़,
एक नजर हमको भी देख लो कि तुम बिन जिंदगी अच्छी नहीं लगती।

Kuch Muhabbat Ka Nasha Tha Pehle Humko Faraz,
Dil Jo Toota To Nashe Se Muhabbat Ho Gayi.
कुछ मोहब्बत का नशा था पहले हमको फ़राज़,
दिल जो टूटा तो नशे से मोहब्बत हो गयी।

Cheekhein Bhi Yehan Koyi Gaur Se Sunta Nahi Koi Faraz,
Are, Kis Shahar Mein Tum Sher Sunaane Chale Aaye.
चीखें भी यहाँ गौर से सुनता नहीं कोई फ़राज़,
अरे, किस शहर में तुम शेर सुनाने चले आये।

Silsile Tod Gaya Woh Sabhi Jaate-Jaate,
Varna Itne Toh Marasim The Ki Aate-Jaate.
सिलसिले तोड़ गया वो सभी जाते-जाते,
वरना इतने तो मरासिम थे कि आते जाते।

Love Shayari,  Hindi Shayari , Shayari on Love

.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *